जय श्रीकृष्ण

January 8, 2007 at 5:14 am | Posted in प्रवेश | 11 Comments

काग़ज कलम की सीमाओं को तोड़कर इस जाल में आए शब्‍द यात्रा के सभी यात्रि‍यों को मेरा नमस्‍कार।

11 Comments »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. स्वागत है आपका इस शब्दयात्रा में। हम पूरी तरह से आशान्वित है कि आप इस शब्दयात्रा में हर समय नए पड़ावों की ओर ले जाएँगे।

  2. थकान के अधेरे में डूबती आँखों से देखे सपनों की कल्पनाएँ ही हक़ीकत का उजाला लाती हैं। सच है आखि़र सपने ही तो बस अपने हैं। सपनों की दुनिया से आरंभ हुई क़लम की रफ़्तार बनाए रखिए।
    शुभेच्छा।

  3. स्वागत है अरुंधती जी चिट्ठाकारी की इस दुनिया में। उम्मीद है आपकी शब्दयात्रा निर्बाध चलती रहेगी।

    कृपया चिट्ठे का शीर्षक ‘शबदयात्रा’ से सुधार कर ‘शब्दयात्रा’ कर लें।

  4. बढ़िया है. स्वागत है हिन्दी चिट्ठा जगत में. निरंतर लेखन के लिये शुभकामनायें.

  5. Namashkar.
    Net pe Bhatkate huye aapke blog tak pahuncha hoon. Aapki Kavitayen Havon ke Taze Jhonke sa ehsas deti hain. BADHAYI.
    zakir

  6. अरुंधती, आपका चिट्ठा अच्छा लगा । लिखती रहें ।

  7. Yar Aru Thodhi Mehanat Karo. Abhi Tumhari Kavitao Me Bachapana Hai. Ye Thik Se Kishpr Bhi Nahi Hui. Inhe Yuaa Aur Prodh Hona Hai Abhi. Mujhe Umid Hai Bura Nahi Manogi. Aur Man Bhi Jaogi To Koi Bat Nahin.
    sattu

    • थोड़ी नहीं सत्‍तू जी बहुत मेहनत, अध्‍ययन, मनन, चिंतन आवश्‍यक है…. और हां मैं आलोचनाओं और मेरी गलतियां बताने वालों की मुरीद हुं… दरअसल चित्‍त स्‍थिर नहीं है मेरा कोई एक काम टिककर नहीं कर पाती… हांलांकि पढ़ने लिखने में जी रमता है लेकिन चंचल बुद्धि कहीं टिकने नहीं देती…

  8. Respected Arudhanti Madam

    aaki kavitavae bahut gahri soch wali aur bahut dil ko lubhawani wali hai. please aapki kavitaye mein aur padhna chahti hu. please apni website ya books name bataye. i reqest you .

    • मैं अभी नौसीखिया हूं शशि जी .. मेरी कोई पुस्‍तक प्रकाशित नहीं हुर्ह हैं अभी तक… और अब तो आठ साल का लंबा अर्सा बीत गया है न लिखे हुए …

  9. Dear Madam.,

    We are sending you a many-2 best wishes for you..,keep it up., aap in future bahut upper tak jayengi., aap issi tarah likhti rahe., our best wishes always with you.,


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.
Entries and comments feeds.

%d bloggers like this: